Atal Bihari Vajpayee Poems in Hindi | दहाड़ती हुई कवितायें

जहरीले शब्दों के लिए जानी जाने वाली गंदी राजनीति की दुनिया में, एक नाम जो सोने के अक्षरों में चमकता है, वह है भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी। चार दशकों से अधिक समय तक सांसद रहे, भारत रत्न प्राप्तकर्ता ने राजनीतिक हलकों और विचारधाराओं में अपार सम्मान अर्जित किया है। आज हम आपके लिए Atal Bihari Vajpayee Poems लेकर आये हैं। उनकी रचनाएं जोश भरने वाली होती थीं।

भारतीय जनता पार्टी के एक सदस्य, वाजपेयी जी अपने दहाड़ने वाले भाषणों के लिए भी जाने जाते थे। एक राजनेता होने के अलावा, वह एक प्रशंसित लेखक भी थे, जिन्होंने विभिन्न कविताएँ लिखी हैं। अटल बिहारी वाजपेयी सबसे सम्मानित व्यक्तित्वों में से एक हैं।

poems by atal bihari vajpayee ji

अटल बिहारी वाजपेयी जी बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे:

  • वाजपेयी जी एक ऐसे ऑलराउंडर के रूप में बहुत प्रसिद्ध हैं, जिनके पास उल्लेखनीय काव्य कौशल है। उन्होंने हिंदी में कई कविताएँ लिखी और प्रकाशित की हैं।
  • इनका जन्म ग्वालियर के एक मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ था। मातृभाषा हिंदी के प्रति उनका प्रेम शब्दों से परे है। वे संयुक्त राष्ट्र महासभा में हिंदी में भाषण देने वाले पहले व्यक्ति बने।
  • इतना ही नहीं, वे दमदार वक्ता के लिए भी जाने जाते हैं क्योंकि उनके कई भाषणों ने लोगों को काफी हद तक प्रभावित किया।

एक कवि के रूप में अटल बिहारी वाजपेयी:

  • अपने सफल राजनीतिक जीवन के अलावा, वाजपेयी जी एक चमत्कारी कवि, प्रभावशाली और गूंजने वाले वक्ता के रूप में भी उभरे।
  • आज़ादी से पहले की विकट स्थिति को चित्रित करने के लिए, उन्होंने अपने शब्दों का सहारा लिया और हिंदी में कई कविताएँ लिखीं, जिनकी आज भी पूरे देश में प्रशंसा होती है।
  • आपातकाल के दौरान जेल जाने के बाद से ही अटल जी ने कविताएं बनाना शुरू कर दिया था। उन्होंने लिखा, ‘कैदी कविराज की कुंडलियां‘ और ‘अमर आग है‘ जो 1994 में प्रकाशित हुई थी।

Atal Bihari Vajpayee Poems in Hindi

Poem #1 – दूध में दरार पड़ गई – Most Famous Poem of Atal Bihari Vajpayee

Most Famous Poem of Atal Bihari Vajpayee

ख़ून क्यों सफ़ेद हो गया?
भेद में अभेद खो गया।
बँट गये शहीद, गीत कट गए,
कलेजे में कटार दड़ गई।
दूध में दरार पड़ गई।

खेतों में बारूदी गंध,
टूट गये नानक के छंद
सतलुज सहम उठी, व्यथित सी बितस्ता है।
वसंत से बहार झड़ गई
दूध में दरार पड़ गई।

अपनी ही छाया से बैर,
गले लगने लगे हैं ग़ैर,
ख़ुदकुशी का रास्ता, तुम्हें वतन का वास्ता।
बात बनाएँ, बिगड़ गई।
दूध में दरार पड़ गई।


Poem #2 – राह कौन सी जाऊँ मैं – अटल बिहारी वाजपेयी कविता

Selected Poems Atal Bihari Vajpayee

चौराहे पर लुटता चीर
प्यादे से पिट गया वजीर
चलूँ आखिरी चाल कि बाजी छोड़ विरक्ति सजाऊँ मैं?
राह कौन सी जाऊँ मैं?

सपना जन्मा और मर गया
मधु ऋतु में ही बाग झर गया
तिनके टूटे हुये बटोरूँ या नवसृष्टि सजाऊँ मैं?
राह कौन सी जाऊँ मैं?

दो दिन मिले उधार में
घाटों के व्यापार में
क्षण-क्षण का हिसाब लूँ या निधि शेष लुटाऊँ मैं?
राह कौन सी जाऊँ मैं ?


Poem #3 – मनाली मत जइयो – Atal Bihari Vajpayee Kavita

Atal Bihari Vajpayee Poems List

मनाली मत जइयो, गोरी
राजा के राज में।

जइयो तो जइयो,
उड़िके मत जइयो,
अधर में लटकीहौ,
वायुदूत के जहाज़ में।

जइयो तो जइयो,
सन्देसा न पइयो,
टेलिफोन बिगड़े हैं,
मिर्धा महाराज में।

जइयो तो जइयो,
मशाल ले के जइयो,
बिजुरी भइ बैरिन
अंधेरिया रात में।

जइयो तो जइयो,
त्रिशूल बांध जइयो,
मिलेंगे ख़ालिस्तानी,
राजीव के राज में।

मनाली तो जइहो।
सुरग सुख पइहों।
दुख नीको लागे, मोहे
राजा के राज में।


Poem #4 – हरी हरी दूब पर – Atal Bihari Vajpayee Poem

Atal Bihari Vajpayee ki Kavitayen

हरी हरी दूब पर
ओस की बूंदे
अभी थी,
अभी नहीं हैं|
ऐसी खुशियाँ
जो हमेशा हमारा साथ दें
कभी नहीं थी,
कहीं नहीं हैं|

क्काँयर की कोख से
फूटा बाल सूर्य,
जब पूरब की गोद में
पाँव फैलाने लगा,
तो मेरी बगीची का
पत्ता-पत्ता जगमगाने लगा,
मैं उगते सूर्य को नमस्कार करूँ
या उसके ताप से भाप बनी,
ओस की बुँदों को ढूंढूँ?

सूर्य एक सत्य है
जिसे झुठलाया नहीं जा सकता
मगर ओस भी तो एक सच्चाई है
यह बात अलग है कि ओस क्षणिक है
क्यों न मैं क्षण क्षण को जिऊँ?
कण-कण मेँ बिखरे सौन्दर्य को पिऊँ?

सूर्य तो फिर भी उगेगा,
धूप तो फिर भी खिलेगी,
लेकिन मेरी बगीची की
हरी-हरी दूब पर,
ओस की बूंद
हर मौसम में नहीं मिलेगी|


Poem #5 – पड़ोसी – Atal Ji Poem on Pakistan

Atal ji Poem

एक नहीं दो नहीं करो बीसों समझौते,
पर स्वतन्त्र भारत का मस्तक नहीं झुकेगा।

अगणित बलिदानो से अर्जित यह स्वतन्त्रता,
अश्रु स्वेद शोणित से सिंचित यह स्वतन्त्रता।
त्याग तेज तपबल से रक्षित यह स्वतन्त्रता,
दु:खी मनुजता के हित अर्पित यह स्वतन्त्रता।

इसे मिटाने की साजिश करने वालों से कह दो,
चिंगारी का खेल बुरा होता है ।
औरों के घर आग लगाने का जो सपना,
वो अपने ही घर में सदा खरा होता है।

अपने ही हाथों तुम अपनी कब्र ना खोदो,
अपने पैरों आप कुल्हाड़ी नहीं चलाओ।
ओ नादान पड़ोसी अपनी आँखे खोलो,
आजादी अनमोल ना इसका मोल लगाओ।

पर तुम क्या जानो आजादी क्या होती है?
तुम्हे मुफ़्त में मिली न कीमत गयी चुकाई।
अंग्रेजों के बल पर दो टुकडे पाये हैं,
माँ को खंडित करते तुमको लाज ना आई?

अमरीकी शस्त्रों से अपनी आजादी को
दुनिया में कायम रख लोगे, यह मत समझो।
दस बीस अरब डालर लेकर आने वाली बरबादी से
तुम बच लोगे यह मत समझो।

धमकी, जिहाद के नारों से, हथियारों से
कश्मीर कभी हथिया लोगे यह मत समझो।
हमलो से, अत्याचारों से, संहारों से
भारत का शीष झुका लोगे यह मत समझो।

जब तक गंगा मे धार, सिंधु मे ज्वार,
अग्नि में जलन, सूर्य में तपन शेष,
स्वातन्त्र्य समर की वेदी पर अर्पित होंगे
अगणित जीवन यौवन अशेष।

अमरीका क्या संसार भले ही हो विरुद्ध,
काश्मीर पर भारत का सर नही झुकेगा
एक नहीं दो नहीं करो बीसों समझौते,
पर स्वतन्त्र भारत का निश्चय नहीं रुकेगा ।


Poem #6 – सांझ – Selected Poems Atal Bihari Vajpayee

Atal Bihari Vajpayee Kavita

जीवन की ढलने लगी सांझ
उमर घट गई
डगर कट गई
जीवन की ढलने लगी सांझ।

बदले हैं अर्थ
शब्द हुए व्यर्थ
शान्ति बिना खुशियाँ हैं बांझ।

सपनों में मीत
बिखरा संगीत
ठिठक रहे पांव और झिझक रही झांझ।
जीवन की ढलने लगी सांझ।


Poem #7 – ऊँचाई – Atal Bihari Vajpayee Kavita in Hindi

Atal Bihari Vajpayee Poems in Hindi

ऊँचे पहाड़ पर,
पेड़ नहीं लगते,
पौधे नहीं उगते,
न घास ही जमती है।

जमती है सिर्फ बर्फ,
जो, कफ़न की तरह सफ़ेद और,
मौत की तरह ठंडी होती है।
खेलती, खिलखिलाती नदी,
जिसका रूप धारण कर,
अपने भाग्य पर बूंद-बूंद रोती है।

ऐसी ऊँचाई,
जिसका परस
पानी को पत्थर कर दे,
ऐसी ऊँचाई
जिसका दरस हीन भाव भर दे,
अभिनंदन की अधिकारी है,
आरोहियों के लिये आमंत्रण है,
उस पर झंडे गाड़े जा सकते हैं,

किन्तु कोई गौरैया,
वहाँ नीड़ नहीं बना सकती,
ना कोई थका-मांदा बटोही,
उसकी छाँव में पलभर पलक ही झपका सकता है।

सच्चाई यह है कि
केवल ऊँचाई ही काफ़ी नहीं होती,
सबसे अलग-थलग,
परिवेश से पृथक,
अपनों से कटा-बँटा,
शून्य में अकेला खड़ा होना,
पहाड़ की महानता नहीं,
मजबूरी है।
ऊँचाई और गहराई में
आकाश-पाताल की दूरी है।

जो जितना ऊँचा,
उतना एकाकी होता है,
हर भार को स्वयं ढोता है,
चेहरे पर मुस्कानें चिपका,
मन ही मन रोता है।

ज़रूरी यह है कि
ऊँचाई के साथ विस्तार भी हो,
जिससे मनुष्य,
ठूँठ सा खड़ा न रहे,
औरों से घुले-मिले,
किसी को साथ ले,
किसी के संग चले।

भीड़ में खो जाना,
यादों में डूब जाना,
स्वयं को भूल जाना,
अस्तित्व को अर्थ,
जीवन को सुगंध देता है।

धरती को बौनों की नहीं,
ऊँचे कद के इंसानों की जरूरत है।
इतने ऊँचे कि आसमान छू लें,
नये नक्षत्रों में प्रतिभा की बीज बो लें,

किन्तु इतने ऊँचे भी नहीं,
कि पाँव तले दूब ही न जमे,
कोई काँटा न चुभे,
कोई कली न खिले।

न वसंत हो, न पतझड़,
हो सिर्फ ऊँचाई का अंधड़,
मात्र अकेलेपन का सन्नाटा।

मेरे प्रभु!
मुझे इतनी ऊँचाई कभी मत देना,
ग़ैरों को गले न लगा सकूँ,
इतनी रुखाई कभी मत देना।


Poem #8 – आज़ादी अभी अधूरी है – Poem by Atal Bihari Vajpayee

Atal Bihari Vajpayee Poems

पन्द्रह अगस्त का दिन कहता – आज़ादी अभी अधूरी है।
सपने सच होने बाक़ी हैं, राखी की शपथ न पूरी है॥

जिनकी लाशों पर पग धर कर आजादी भारत में आई।
वे अब तक हैं खानाबदोश ग़म की काली बदली छाई॥

कलकत्ते के फुटपाथों पर जो आंधी-पानी सहते हैं।
उनसे पूछो, पन्द्रह अगस्त के बारे में क्या कहते हैं॥

हिन्दू के नाते उनका दुख सुनते यदि तुम्हें लाज आती।
तो सीमा के उस पार चलो सभ्यता जहाँ कुचली जाती॥

इंसान जहाँ बेचा जाता, ईमान ख़रीदा जाता है।
इस्लाम सिसकियाँ भरता है,डालर मन में मुस्काता है॥

भूखों को गोली नंगों को हथियार पिन्हाए जाते हैं।
सूखे कण्ठों से जेहादी नारे लगवाए जाते हैं॥

लाहौर, कराची, ढाका पर मातम की है काली छाया।
पख़्तूनों पर, गिलगित पर है ग़मगीन ग़ुलामी का साया॥

बस इसीलिए तो कहता हूँ आज़ादी अभी अधूरी है।
कैसे उल्लास मनाऊँ मैं? थोड़े दिन की मजबूरी है॥

दिन दूर नहीं खंडित भारत को पुनः अखंड बनाएँगे।
गिलगित से गारो पर्वत तक आजादी पर्व मनाएँगे॥

उस स्वर्ण दिवस के लिए आज से कमर कसें बलिदान करें।
जो पाया उसमें खो न जाएँ, जो खोया उसका ध्यान करें॥


Poem #9 – कवि आज सुना वह गान रे – Poem Atal Bihari Vajpayee

Atal Bihari Vajpayee kavita in Hindi

कवि आज सुना वह गान रे,
जिससे खुल जाएँ अलस पलक।
नस–नस में जीवन झंकृत हो,
हो अंग–अंग में जोश झलक।

ये – बंधन चिरबंधन
टूटें – फूटें प्रासाद गगनचुम्बी
हम मिलकर हर्ष मना डालें,
हूकें उर की मिट जाएँ सभी।

यह भूख – भूख सत्यानाशी
बुझ जाय उदर की जीवन में।
हम वर्षों से रोते आए
अब परिवर्तन हो जीवन में।

क्रंदन – क्रंदन चीत्कार और,
हाहाकारों से चिर परिचय।
कुछ क्षण को दूर चला जाए,
यह वर्षों से दुख का संचय।

हम ऊब चुके इस जीवन से,
अब तो विस्फोट मचा देंगे।
हम धू – धू जलते अंगारे हैं,
अब तो कुछ कर दिखला देंगे।

अरे ! हमारी ही हड्डी पर,
इन दुष्टों ने महल रचाए।
हमें निरंतर चूस – चूस कर,
झूम – झूम कर कोष बढ़ाए।

रोटी – रोटी के टुकड़े को,
बिलख–बिलखकर लाल मरे हैं।
इन – मतवाले उन्मत्तों ने,
लूट – लूट कर गेह भरे हैं।
पानी फेरा मर्यादा पर,
मान और अभिमान लुटाया।
इस जीवन में कैसे आए,
आने पर भी क्या पाया?

रोना, भूखों मरना, ठोकर खाना,
क्या यही हमारा जीवन है?
हम स्वच्छंद जगत में जन्मे,
फिर कैसा यह बंधन है?

मानव स्वामी बने और
मानव ही करे गुलामी उसकी।
किसने है यह नियम बनाया,
ऐसी है आज्ञा किसकी?

सब स्वच्छंद यहाँ पर जन्मे,
और मृत्यु सब पाएँगे।
फिर यह कैसा बंधन जिसमें,
मानव पशु से बंध जाएँगे ?

अरे! हमारी ज्वाला सारे
बंधन टूक-टूक कर देगी।
पीड़ित दलितों के हृदयों में,
अब न एक भी हूक उठेगी।

हम दीवाने आज जोश की
मदिरा पी उन्मत्त हुए।
सब में हम उल्लास भरेंगे,
ज्वाला से संतप्त हुए।

रे कवि! तू भी स्वरलहरी से,
आज आग में आहुति दे।
और वेग से भभक उठें हम,
हद् – तंत्री झंकृत कर दे।


Poem #10 – मरण की मांग करूँगा – Atal Ji Poem

मैंने जन्म नहीं मांगा था,
किन्तु मरण की मांग करुँगा।

जाने कितनी बार जिया हूँ,
जाने कितनी बार मरा हूँ।
जन्म मरण के फेरे से मैं,
इतना पहले नहीं डरा हूँ।

अन्तहीन अंधियार ज्योति की,
कब तक और तलाश करूँगा।
मैंने जन्म नहीं माँगा था,
किन्तु मरण की मांग करूँगा।

बचपन, यौवन और बुढ़ापा,
कुछ दशकों में ख़त्म कहानी।
फिर-फिर जीना, फिर-फिर मरना,
यह मजबूरी या मनमानी?

पूर्व जन्म के पूर्व बसी—
दुनिया का द्वारचार करूँगा।
मैंने जन्म नहीं मांगा था,
किन्तु मरण की मांग करूँगा।


Poem #11 – दिया जलाएँ – Most Famous Poem of Atal Bihari Vajpayee

आओ फिर से दिया जलाएँ
भरी दुपहरी में अँधियारा
सूरज परछाई से हारा
अंतरतम का नेह निचोड़ें-
बुझी हुई बाती सुलगाएँ।
आओ फिर से दिया जलाएँ

हम पड़ाव को समझे मंज़िल
लक्ष्य हुआ आँखों से ओझल
वर्त्तमान के मोहजाल में-
आने वाला कल न भुलाएँ।
आओ फिर से दिया जलाएँ।

आहुति बाकी यज्ञ अधूरा
अपनों के विघ्नों ने घेरा
अंतिम जय का वज़्र बनाने-
नव दधीचि हड्डियाँ गलाएँ।
आओ फिर से दिया जलाएँ


Poem #12 -क़दम मिलाकर – अटल बिहारी वाजपेयी की कविता

बाधाएँ आती हैं आएँ
घिरें प्रलय की घोर घटाएँ,
पावों के नीचे अंगारे,
सिर पर बरसें यदि ज्वालाएँ,
निज हाथों में हँसते-हँसते,
आग लगाकर जलना होगा।
क़दम मिलाकर चलना होगा।

हास्य-रूदन में, तूफ़ानों में,
अगर असंख्यक बलिदानों में,
उद्यानों में, वीरानों में,
अपमानों में, सम्मानों में,
उन्नत मस्तक, उभरा सीना,
पीड़ाओं में पलना होगा।
क़दम मिलाकर चलना होगा।

उजियारे में, अंधकार में,
कल कहार में, बीच धार में,
घोर घृणा में, पूत प्यार में,
क्षणिक जीत में, दीर्घ हार में,
जीवन के शत-शत आकर्षक,
अरमानों को ढलना होगा।
क़दम मिलाकर चलना होगा।

सम्मुख फैला अगर ध्येय पथ,
प्रगति चिरंतन कैसा इति अब,
सुस्मित हर्षित कैसा श्रम श्लथ,
असफल, सफल समान मनोरथ,
सब कुछ देकर कुछ न मांगते,
पावस बनकर ढलना होगा।
क़दम मिलाकर चलना होगा।

कुछ काँटों से सज्जित जीवन,
प्रखर प्यार से वंचित यौवन,
नीरवता से मुखरित मधुबन,
परहित अर्पित अपना तन-मन,
जीवन को शत-शत आहुति में,
जलना होगा, गलना होगा।
क़दम मिलाकर चलना होगा।


Poem #13 – उनकी याद करें – Atal Bihari Vajpayee Poems in Hindi

जो बरसों तक सड़े जेल में, उनकी याद करें।
जो फाँसी पर चढ़े खेल में, उनकी याद करें।
याद करें काला पानी को,
अंग्रेजों की मनमानी को,
कोल्हू में जुट तेल पेरते,
सावरकर से बलिदानी को।
याद करें बहरे शासन को,
बम से थर्राते आसन को,
भगतसिंह, सुखदेव, राजगुरू
के आत्मोत्सर्ग पावन को।
अन्यायी से लड़े,
दया की मत फरियाद करें।
उनकी याद करें।
बलिदानों की बेला आई,
लोकतंत्र दे रहा दुहाई,
स्वाभिमान से वही जियेगा
जिससे कीमत गई चुकाई
मुक्ति माँगती शक्ति संगठित,
युक्ति सुसंगत, भक्ति अकम्पित,
कृति तेजस्वी, घृति हिमगिरि-सी
मुक्ति माँगती गति अप्रतिहत।
अंतिम विजय सुनिश्चित, पथ में
क्यों अवसाद करें?
उनकी याद करें।


List of Atal Bihari Vajpayee Poems in Hindi

  • दूध में दरार पड़ गई – Most Famous Poem of Atal Bihari Vajpayee
  • राह कौन सी जाऊँ मैं – अटल बिहारी वाजपेयी कविता
  • मनाली मत जइयो – Atal Bihari Vajpayee Kavita
  • हरी हरी दूब पर – Atal Ji Poem
  • पड़ोसी – अटल जी की पकिस्तान पर कविता
  • जीवन की ढलने लगी सांझ – अटल जी की कविता
  • ऊँचाई – वाजपेयी जी की प्रेरणादायक कविता
  • आज़ादी अभी अधूरी है – Poem by Atal Bihari Vajpayee
  • कवि आज सुना वह गान रे – Poem Atal Bihari Vajpayee
  • मरण की मांग करूँगा – Atal Ji Poem
  • आओ फिर से दिया जलाएँ – Most Famous Poem of Atal Ji
  • क़दम मिलाकर चलना होगा – अटल बिहारी वाजपेयी की कविता
  • उनकी याद करें – Atal Bihari Vajpayee Poems in Hindi

क्या खोया क्या पाया – अटल बिहारी वाजपेयी

2002 में, भारत के सबसे प्यारे शब्दों के जादूगर, अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा “क्या खोया क्या पाया” शीर्षक से एक कविता को जगजीत सिंह द्वारा एक गीत में परिवर्तित किया गया था। एल्बम का शीर्षक था “संवेदना”। अभिनेता अमिताभ बच्चन ने वीडियो की प्रस्तावना सुनाई, जबकि अभिनेता शाहरुख खान ने इसमें अभिनय किया। संगीत वीडियो का निर्देशन यश चोपड़ा ने किया था। इस वीडियो को आप यहां देख सकते हैं।

अटल जी 1942 में एक छात्र नेता के रूप में भारत छोड़ो आंदोलन में शामिल हुए थे। अटल जी को उनके जन्मदिन पर 2015 में भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से नवाजा गया था। उनके जन्मदिन, 25 दिसंबर, को नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा सुशासन दिवस के रूप में भी घोषित किया गया था।

अटल जी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सदस्य भी थे और भाजपा में शामिल होने से पहले उन्होंने कुछ समय के लिए पत्रकार के रूप में काम किया। वह पहले गैर-कांग्रेसी राजनीतिक नेता थे जो भारत के प्रधान मंत्री बने।

अटल जी ने 2005 के अंत में राजनीति से संन्यास की घोषणा की। 16 अगस्त, 2018 को उनका निधन हो गया।

दोस्तों, अटल जी का जीवन एक प्रेरणा की तरह है जिस से हमें बहुत कुछ सीखने की जरुरत है. हमने अटल जी की कविताओं का यह संग्रह (List of Atal Bihari Vajpayee Poems in Hindi) आपके लिए ही यहाँ प्रस्तुत किया है.

क्या उसके शब्द इतने अच्छे नहीं हैं कि आपके पास प्रशंसा के शब्द नहीं रह जाते?

अगर आपको हमारा द्वारा किया गया यह प्रयास अच्छा लगा हो तो हमें सराहने के लिए कमेंट करें, ताकि हम लगातार आपके लिए नये नये कविता संग्रह लाने के लिए उत्साहित रहें. टीम रोशनदान आपकी सफलता की कामना करती है. कवितायें पढने के लिए धन्यवाद.

आप यह भी पढ़ सकते हैं-