7 दिन में 100 घंटे काम कैसे करें?

हम सब यह मानते हैं कि कहीं ना कहीं पूरे दिन में से कुछ घंटे हम सही तरीके से उपयोग नहीं कर पाते हैं। चाहे कितने ही मोटिवेशन वीडियो देख लो, कितना ही टाइम मैनेजमेंट का तरीका सीख लो, कितने ही ट्रिक सीख लो, आखिर में हम फिर से समय खराब करना शुरू कर देते हैं। हम सब अब तक यह समझ चुके हैं कि किसी भी काम में जितने भी घंटे देते हैं, हम उतने ही एक्सपर्ट बनते जाते हैं उस काम में।

Elon Musk का यह कहना है, उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा था कि आपको एक हफ्ते में 80-100 घंटे काम करना चाहिए यानी कि 1 दिन में लगभग 11-14 घंटे सही तरीके से काम करना चाहिए। तो यह हमसे क्यों नहीं होता है?

जो यह मोटिवेशन है, यह एक फीलिंग है। यह हम सबको पता है लेकिन हमें बारिकी से अपने माइंड को, अपनी बॉडी को समझ कर अपनी कार्यक्षमता (प्रोडक्टिविटी) को बेहतर तरीके से बढ़ाना होगा जिसे सीटिंग पावर बोलते हैं।

आप एक ही काम पर, एक ही प्रोजेक्ट पर लगातार कितने घंटे बिना थके, बिना बोर हुए, टिक करके काम कर सकते हो; तो वो आपके शरीर और दिमाग पर निर्भर करता है।

थकने की वजह

थकने की वजह होती है कि आपका डोपामिन रिलीज होना बंद हो गया है। उस काम से मजा आना बंद हो गया है। अब आपका दिमाग शांत होना चाहता है। डोपामिन एक हारमोन है जो हमें एक्टिव बनाता है, कंसंट्रेशन में मदद करता है। और यह हार्मोन बनता है अच्छा खाने से, एक्सरसाइज करने से और आपकी रोजमर्रा की आदतों से।

तो क्या करें?

आज से अपने आप से एक छोटा सा कमिटमेंट करो। ज्यादा बड़ा भी नहीं जो कि आप से पूरा नहीं हो पाए, बस एक छोटा सा वादा करना है कि कैसे भी 7 दिन तक एक ऐसा काम करो जिससे आपकी शरीर और आपका मन ट्रेन हो पाए।

अपने मन को ट्रेन करने के लिए कुछ यह नीचे दी गई हिदायत पढ़ें.

काम करने के लिए सक्रिय और ऊर्जावान रहने के लिए पहले अपने आप को ऐसा बनाना है कि आप की सीटिंग पावर बढ़ जाए। आप जल्दी ना थको। जल्दी से मोबाइल में ध्यान न जाए। जल्दी से डिस्ट्रैक्ट ना हो। जल्दी से काम करते करते फालतू की बातें ध्यान में ना आए। तो इसका पहला कदम है –

१. एक्सरसाइज और डाइट

इस चीज से आप समझौता नहीं कर सकते और इसके फायदे हम सबको पता भी हैं। इससे आपके इच्छाशक्ति अच्छी होती है, आत्मविश्वास बढ़ता है। काम करते वक्त आपका मूड अच्छा रहता है। और आपका दिमाग डिस्टर्ब नहीं होता है। यानी कि दूसरी फालतू की बातों में ध्यान नहीं जाता।

तो 7 दिन के लिए यानी 1 हफ्ते के लिए कैसे भी करके रोज एक्सरसाइज करो और प्रॉपर डाइट लो। डाइट में यह ध्यान रखें कि आप ज्यादा इसमें ना घुसे, यानी कि बॉडीबिल्डिंग वाली डाइट ना ले।

२. ध्यान (मेडिटेशन)

यह चीज आपको हर जगह मिली भी होगी, आपने पढ़ी भी होगी। लेकिन आप से होता नहीं होगा। तो 7 दिन के लिए आप मेडिटेशन करें। चाहे लेट भी उठते हो क्योंकि लेट उठने वाले मेडिटेशन को स्किप करते रहते हैं कि टाइम से तो उठा नहीं, अब क्या मैडिटेशन।

तो इससे बेहतर है आप जिस टाइम पर भी उठे उसी टाइम पर मेडिटेशन करें क्योंकि – आप नहीं कर रहे हो, इससे अच्छा है कि आप लेट कर रहे हो।

अब आपके दिमाग में एक बात आई होगी की इसे करना जरूरी क्यों है?

आपका यह जो दिमाग है, इसको ट्रेन करने के लिए आपको छोटी सी प्रैक्टिस करनी होगी। 10 मिनट अगर आपको अपना दिमाग एक जगह लगाना आ गया तो आपने अपने दिमाग को एक जगह लगाने का कोड क्रैक कर लिया। आप इसी चीज का प्रयोग अपने काम में कर सकते हो। और यह चीज आपको बस 7 दिन के लिए करनी है। एक्सरसाइज और ध्यान में आपको मुश्किल से बस एक घंटा लगेगा।

आप शरीर और मन की ट्रेनिंग कर रहे हो। जैसे पायलट हवाई जहाज को उड़ाने की ट्रेनिंग लेता है या कोई भी इंसान किसी भी काम की ट्रेनिंग लेता हो, उसी तरह आपको अपने दिमाग को मैनेज करने की ट्रेनिंग लेने की जरूरत है। इसके लिए आपको बस यह चीजें 7 दिन के लिए करनी हैं।

यह भी पढ़ें –

३. अनुशासन (मन को मारने की ट्रेनिंग)

मतलब आपको कैसे भी करके हफ्ते में 80 से 100 घंटे काम करना है। यह आपने भी महसूस किया होगा कि जब आप काम करने वाली जोन में प्रवेश कर जाते हैं, तो आगे क्या करना है उसका मोटिवेशन और अब तक जो किया उसका सेंस ऑफ अचीवमेंट मिल जाता है। आप बीच में आ जाते हो।

मोटिवेशन उसके लिए जो काम आपको करना है और जो किया है उसके लिए अच्छा फील होना । आप इन दोनों चीजों के बीच में आ गए तो फिर आप के लिए आलस दूर करना मुश्किल हो जाता है। यह होगा तब जब आप एक बार थोड़ी सी आलस तोड़कर अपने काम में मन लगाएंगे यानी अनुशासन में आएंगे।

एक्सरसाइज, ध्यान और अनुशासन – इन चीजों का आपको बस 7 दिन के लिए फॉलो करना है।

अगर आप यह चीजें 7 दिन के लिए भी नहीं कर सकते हो तो सपने मत देखो। कोई अचीवमेंट के लिए सोचो भी मत। कोई लक्ष्य मत रखो।

अगर आप अपने लिए यह कुछ छोटी-छोटी चीजें नहीं कर सकते तो आप कुछ भी नहीं कर सकते। और अगर आप खुद से प्यार नहीं करते हो तो आप किसी से प्यार नहीं कर सकते। क्योंकि अगर आप खुद से ही प्यार नहीं कर सकते तो और किसी से क्या करोगे? क्योंकि अगर आपने अपने आप को मजबूत नहीं बनाया, अपने आप को शक्तिशाली नहीं बनाया, अपने आप को अमीर नहीं बनाया तो आप अपनी फैमिली को कैसे अच्छी जिंदगी दोगे?

निष्कर्ष

अगर आप 7 दिन यह चीजें कर लेते हो तो आप अपनी जिंदगी को आगे ले जाना चाहते हो। 7 दिन मैं इसलिए कह रहा हूं क्योंकि 7 दिन के बाद जो आपकी लाइफ में बदलाव आएंगे, जो आपके माइंड में, आपकी बॉडी में, आपके सोचने के तरीके में, आपके दिमाग में, जो विचार आएंगे वो आपको अच्छा फील करना सिखाएंगे। अब तक जिस काम को करने में तकलीफ होती थी, आप उस काम को करने में अच्छा महसूस करेंगे।

तो यह अच्छा फील होना जो आपको इन 7 दिनों में महसूस हुआ है, वह आप आगे से आगे करते जाओगे। और यह आपका रूटीन बन जाएगा।

तो आपको यह तरीका कैसा लगा, हमें कमेंट में बताएं. अगर अच्छा लगा हो तो दोस्तों के साथ शेयर करें. हम आपकी सफलता की कामना करते हैं. लेख पढ़ने के लिए धन्यवाद.